WELCOME TO ITech eHome Computer Education, Tikhampur, Ballia                 गूगल क्रोम में incognito mode क्या है जानियें                  विंडोज में महत्वपूर्ण डेटा की रक्षा कैसे करें?                  GUI (ग्राफिकल यूजर इंटरफ़ेस) क्या है                  विंडोज में फ़ाइलों के कन्‍टेन्‍ट को सर्च कैसे करे? और यह आपके लिए जरूरी क्‍यो है?                  Chipset क्या है? इंम्पोर्टेन्ट फैक्ट्स Chipset के बारे में                  कंप्यूटर की सामान्य प्रश्नोत्तरी - भाग १                  कम्प्यूटर के बारे में प्रतियोगी परिक्षाओं हेतु महत्‍वपूर्ण तथ्‍य - computer questions for competitive exams                  अगर ऊब गए है पुराने स्टार्ट मेनू से, तो यूज करें इस कस्टमाइज़ेब‍ल और फैन्सी मेनू को                  ऑपरेटिंग सिस्टम के प्रकार                  9 गजब के रोचक फैक्‍ट व्हाट्सएप्प के बारे में - 9 Interesting Amazing Fact About WhatsApp                  विकिपीडिया के बारे में 8 रोचक तथ्य और जानकारी - 8 Interesting facts about Wikipedia                  सभी ओपन प्रोग्राम्स को टैब्ड इंटरफेस में लाए और अपनी कंप्यू्टींग को आसान बनाएं                  जल्दी से ओपन करना हो किसी फ़ोल्डर को, तो My Computer में बनाइए उसका वर्चुअल ड्राइव                  हार्ड डिस्क के बारे में कुछ जानकारियां                  कंप्यूटर का इतिहास (History of Computer)                  कंप्यूटर सॉफ्टवेयर                  अपने पसंदीदा ऐप या फ़ोल्डर के लिए एक कस्टम हॉटकी कैसेट बनाएं?                  What Is E-Commerce In Hindi | ई-वाणिज्य क्या है !                  पिक्चर्स को पेंसिल स्केच या कार्टून में ऑनलाइन कैसे रूपांतरित करें?                  ऑपरेटिंग सिस्टम (Operating System) क्या होता है जाने                 

ITech eHome Computer Education



IT World Article

Linux को प्रयोग क्यों करें ??

लिनक्स के इस्तेमाल कि आवश्यकता –

असल में computer जगत से जुड़े कुछ ऐसे facts है जिनके बारे में हम नहीं जानते और computer के जानकारों की बात नहीं करें तो बहुत कम लोग ये जानते होंगे की हम अपने computer पर जिस windows के operating system का उपयोग करते है वो माइक्रोसॉफ्ट का है और वो paid है अर्थात हमे उसका उपयोग करने के लिए खरीदना पड़ता है जबकि असल में माइक्रोसॉफ्ट का operating system खरीदने के बाद terms & conditions के अनुसार हमे केवल उसके software को उपयोग करने की अनुमति मिलती है और व्यक्तिगत हम अगर उसमे अपनी जरुरत के अनुसार उसके source code में कोई भी बदलाव करते है तो वो अपराध की श्रेणी में आता है |

जबकि दूसरी ओर लिनक्स जो है वो open source software है और यह operating system अपने source code के साथ उपलब्ध है यानि अगर आप computer के जानकर है तो अपनी आवश्यकता के अनुसार उसमे कोई भी बदलाव कर सकते है और बदलाव करने के बाद आप उसे किसी भी व्यक्ति को आगे डिस्ट्रीब्यूशन के लिए आगे उपलब्ध कर सकते है | लिनक्स के किसी भी प्रकार के package डिस्ट्रो कहते है और इन्टरनेट से आप बिलकुल मुफ्त में कोई भी डिस्ट्रो आराम से डाउनलोड कर सकते है |

जबकि ये माना जाता रहा है कि लिनक्स जो है वो बाकी operating systems के मुकाबले कठिन है जबकि ऐसा नहीं है आप बड़ी आसानी से लिनक्स को use कर सकते है लिनक्स को FOSS के अंतर्गत बनाया गया है FOSS के बारे में अधिक जानकारी के लिए यंहा क्लिक करें | जिसका उद्देश्य है सभी लोगो को तकनीक स्वतंत्र और समान रूप के बिना किसी शुल्क के उपलब्ध हो और तेजी से इस सोच का विस्तार देखने को भी मिलता है |जबकि एक और खास बात भी है जो लिनक्स को अन्य किसी computer operating system software से अलग करती है वो इसका ‘वायरस’ से जल्दी infected नहीं होना जबकि windows user तो बिना किसी antivirus के शायद ही computer को इस्तेमाल कर पाते हो क्योकि windows में computer बहुत जल्दी virus से infected हो जाता है |इसलिए किसी संस्था या user को जो windows का operating system इस्तेमाल करते है उनको हजारों रूपये केवल antivirus software पर खर्च करने पड़ते है |

linux की सबसे ख़ास बात : linux को अगर आप केवल एक बार देखना चाहते है अपने पुराने OS को replace करने से पहले तो इसकी लाइव cd या dvd/लाइव usb के जरिये बिना install किये भी काम कर सकते है अर्थात अगर आप किसी public pc पर काम करना चाहते है तो आप अपनी usb स्टिक के जरिये linux के साथ उसे बूट कर सकते है और आपके session के बाद create हुआ सारा data आपके लॉगआउट होने बाद delete हो जायेगा |

लिनक्स बहुत बहुत से variants में उपलब्ध है जिनमे से कुछ लोकप्रिय ये है – ubantu, mint, fedora आदि |

सम्बंधित आर्टिकल



सबसे ज्यादा देखा गया



लेटेस्ट पोस्ट